देर रात खाने की आदत नींद की कमी से भी ज्यादा घातक होती है और ये आपको इन बीमारियों का शिकार बना सकती है
देर रात खाने की आदत नींद की कमी से भी ज्यादा घातक होती है और ये आपको इन बीमारियों का शिकार बना सकती है

देर रात खाने की आदत नींद की कमी से भी ज्यादा घातक होती है और ये आपको इन बीमारियों का शिकार बना सकती है | क्या आप देर रात तक टीवी देखने या सोशल मीडिया पर दोस्तों के साथ चैट करने के आदी हैं? इस दौरान जब आपको भूख लगती है तो क्या आप अक्सर फास्ट फूड या स्नैक्स खाते हैं? अगर ऐसा है तो शांत हो जाइए। संयुक्त राज्य अमेरिका में ब्रिघम और महिला अस्पताल के एक हालिया अध्ययन ने यह सिफारिश दी।

शोधकर्ताओं के अनुसार देर रात तक खाने-पीने की आदत नींद की कमी से ज्यादा घातक है। यह रक्त में ग्लूकोज का उपयोग करने के लिए ऊतक की क्षमता को कम करता है। नतीजतन, एक व्यक्ति “हाइपरग्लेसेमिया” का शिकार हो जाता है जिसमें रक्त शर्करा का स्तर अभी भी सामान्य से बहुत अधिक है। यह स्थिति भविष्य में टाइप 2 मधुमेह और हृदय रोग के रूप में भी प्रकट हो सकती है।

प्रमुख शोधकर्ता फ्रैंक एजेएल शियरर के अनुसार, देर रात को खाना या नाश्ता करना शरीर की “केंद्रीय” और “परिधीय” सर्कैडियन घड़ियों (जैविक घड़ियों) के बीच समन्वय को बाधित कर सकता है। चौबीस घंटे में किसी को भी होने वाले शारीरिक, मानसिक और वास्तविक परिवर्तनों को नियंत्रित करने में ये दो घड़ियां महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।

फ्रैंक ने तर्क दिया कि “केंद्रीय” और “परिधीय” जैविक घड़ियों में असंतुलन ने भी बीटा सेल फ़ंक्शन को प्रभावित किया। अग्न्याशय में मौजूद ये कोशिकाएं इंसुलिन के उत्पादन में शामिल होती हैं। यदि वे ठीक से काम नहीं करते हैं, तो वे इंसुलिन के स्तर में कमी और शरीर में रक्त शर्करा के स्तर में वृद्धि की शिकायत कर सकते हैं। अध्ययन के परिणाम जर्नल साइंस एडवांस के हालिया अंक में प्रकाशित हुए हैं।

खाने के लिए सुबह का इंतजार करना बेहतर

अध्ययन के दौरान, शोधकर्ताओं ने 19 स्वस्थ प्रतिभागियों को 14 दिनों की नियंत्रित दिनचर्या में रखा। उन्हें अंधेरे वातावरण में लगातार 32 घंटे तक जागते रहने के लिए कहा गया। सभी प्रतिभागियों ने हर घंटे एक ही शारीरिक गतिविधि की। उन्हें भी वही खाना और खाना दिया जाता था। इसके बाद, प्रतिभागियों को रात की पाली में काम करने के लिए मजबूर किया गया। आधे प्रतिभागियों को निर्देश दिया गया कि वे शिफ्ट के दौरान जो चाहें खाएं।

वहीं, बाकियों को सुबह के खाने का इंतजार करने को कहा गया। इस समय के दौरान, सुबह जल्दी कुछ खाने वाले प्रतिभागियों का रक्त शर्करा का स्तर बेहतर था, भले ही वे पूरी रात जाग रहे थे।

रात की शिफ्ट में काम करने वाले रहें सतर्क

फ्रैंक और उनके सहयोगियों ने रात की पाली के कर्मचारियों को टाइप 2 मधुमेह के जोखिम पर अधिक ध्यान देने की सलाह दी। उन्होंने जर्मनी के कोलोन विश्वविद्यालय के एक अध्ययन का हवाला दिया। अध्ययन में पाया गया कि जो कर्मचारी रात की पाली या अन्य पाली में काम करते हैं उनमें रक्त शर्करा का स्तर काफी अधिक होता है। इसका मुख्य कारण “बॉडी क्लॉक” के बिगड़ने के कारण चयापचय गतिविधि का प्रभाव था।

OUR LATEST POSTS


join our Facebook Page for more latest news and Job Updates please click

For latest news and Job updates you can Join us on WhatsApp :- click here
join our telegram for more latest news and job updates please click

join us on twitter for more latest news and Job Updates please click

For More Latest Job and News Click Here

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here